Home / इतिहास / देहि शिवा वर मोहि इहै, शुभ करमन ते कबहू न टरौं

देहि शिवा वर मोहि इहै, शुभ करमन ते कबहू न टरौं

गुरु गोविंद सिंह सिर्फ़ सिख समुदाय के ही नहीं, सारी मानवता के चहेते हैं। उनकी दूरदर्शिता अकल्पनीय है, उन्होंने भविष्य को देखते हुए श्री ग्रंथ साहिब को गुरु मानने की आज्ञा दी तथा खालसा पंथ की स्थापना की। आज्ञा भयी अकाल की, तभे चलायो पंथ। सब सिखन को हुकम है, गुरु मानियो ग्रंथ।

गुरु गोविंद सिंह क्रांतिकारी संत थे, उनमें अदम्य साहस, बल, दूरदर्शिता, दर्शन अद्भुत ज्ञान था एवं उनमें ज्ञान, सैन्य क्षमता और दूरदृष्टि का सम्मिश्रण माना जाता है। वे एक आध्यात्मिक गुरु थे, जिन्होंने मानवता को शांति, प्रेम, एकता, समानता एवं समृद्धि का रास्ता दिखाया। वे केवल आदर्शवादी नहीं थे, अपितु व्यावहारिक एवं यथार्थवादी थे।

गुरु गोविंद सिंह जी का जन्म 5 जनवरी 1666 को पटना साहिब में माता गुजरी के कोख से हुआ था। पिता गुरू तेग बहादुर की मृत्यु के उपरान्त 11 नवम्बर सन 1675 को वे गुरू बने। सन 1699 में बैसाखी के दिन उन्होने खालसा पन्थ की स्थापना की जो सिखों के इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण घटना मानी जाती है।

उन्होने मुगलों या उनके सहयोगियों (जैसे, शिवालिक पहाडियों के राजा) के साथ 14 युद्ध लड़े। धर्म के लिए समस्त परिवार का बलिदान उन्होंने किया, जिसके लिए उन्हें ‘सर्वस्वदानी’ भी कहा जाता है। इसके अतिरिक्त जनसाधारण में वे कलगीधर, दशमेश, बाजांवाले आदि कई नाम, उपनाम व उपाधियों से भी जाने जाते हैं।

गुरुजी की लड़ाई सिद्धांतों एवं आदर्शों की लड़ाई थी और इन आदर्शों के धर्मयुद्ध में जूझ मरने एवं लक्ष्य-प्राप्ति हेतु वे ईश्वर से वर मांगते हैं- ‘देहि शिवा वर मोहि, इहैं, शुभ करमन ते कबहू न टरौं।’ वे एक महान कर्मप्रणेता, अद्वितीय धर्मरक्षक, ओजस्वी वीर रस के कवि के साथ ही संघर्षशील वीर योद्धा भी थे।

खालसा के माध्यम से उन्होंने राजनीतिक एवं सामाजिक विचारों को आकार दिया। आनंदपुर साहिब के मेले के अवसर पर सिखों की सभा में ‘गुरु के लिए पांच सिर चाहिए’ कि आवाज लगाई जो व्यक्ति तैयार हो उसे आगे आने को कहा। एक के बाद एक पांच लोगों को परदे के पीछे ले जाया गया तथा तलवार से उनका सिर उड़ा दिया गया। इस प्रकार पांच व्यक्ति आगे आए। बाद में पांचों जीवित बाहर आए और गुरुजी ने उन्हें पंच प्यारा नाम दिया।

गुरु के आदेश के लिए शीश देने को तत्पर ये युवक विभिन्न जातियों और विभिन्न इलाकों से थे। एक लाहौर से, दूसरा दिल्ली से, तीसरा गुजरात से, चौथा उड़ीसा से और पांचवां बीदर (कर्नाटक) से था। एक खत्री, एक नाई, एक जाटव, एक धोबी और एक झीवर था। पिछड़ी जाति के लोगों को अमृत पान कराकर और फिर खुद उनके साथ अमृत छक कर गुरुजी ने सामाजिक एकात्मता, छुआछूत की बुराई के त्याग और ‘मानस की जात एक सभै, एक पहचानबो’ का महासंदेश दिया।

वे सारे समाज और देश को एकसूत्र में पिरोना चाहते थे। यही भाव सारे समाज में संचरित करने के लिए खालसा के सृजन के बाद गुरु गोविंद सिंह ने खुद पंच प्यारों के चरणों में माथा टेका। उन्होंने अपने अनुयायियों के लिए ग्यारह सूत्र दिए तथा इन ग्यारह सूत्रों पर चलने की शिक्षा दी।

1. धरम दी किरत करनी: अपनी जीविका ईमानदारी पूर्वक काम करते हुए चलाएं, 2. दसवंड देना: अपनी कमाई का दसवां हिस्सा दान में दे दें. 3. गुरुबानी कंठ करनी: गुरुबानी को कंठस्थ कर लें. 4. कम करन विच दरीदार नहीं करना: काम में खूब मेहनत करें और काम को लेकर कोताही न बरतें.

5. धन, जवानी, तै कुल जात दा अभिमान नै करना: अपनी जवानी, जाति और कुल धर्म को लेकर घमंडी होने से बचें. 6. दुश्मन नाल साम, दाम, भेद, आदिक उपाय वर्तने अते उपरांत युद्ध करना: दुश्मन से भिड़ने पर पहले साम, दाम, दंड और भेद का सहारा लें, और अंत में ही आमने-सामने के युद्ध में पड़ें.

7. किसी दि निंदा, चुगली, अतै इर्खा नै करना: किसी की चुगली-निंदा से बचें और किसी से ईर्ष्या करने के बजाय मेहनत करें. 8. परदेसी, लोरवान, दुखी, अपंग, मानुख दि यथाशक्त सेवा करनी: किसी भी विदेशी नागरिक, दुखी व्यक्ति, विकलांग व जरूरतमंद शख्स की मदद जरूर करें.

9. बचन करकै पालना: अपने सारे वादों पर खरा उतरने की कोशिश करें. 10. शस्त्र विद्या अतै घोड़े दी सवारी दा अभ्यास करना: खुद को सुरक्षित रखने के लिए शारीरिक सौष्ठव, हथियार चलाने और घुड़सवारी की प्रैक्टिस जरूर करें. आज के संदर्भ में नियमित व्यायाम जरूर करें. 11. जगत-जूठ तंबाकू बिखिया दी तियाग करना: किसी भी तरह के नशे और तंबाकू का सेवन न करें।

इतिहास महापुरुषों को कभी भुला नहीं सकता, क्योंकि उनके द्वारा मानवधर्म को सींचित करने का वीरोचित कार्य किया जाता रहा है, उनकी स्मृति इतिहास में अक्षुण्ण रहती है और कीर्ति सुनहरे अक्षरों से लिखी जाती है। ऐसे बलिदानी सिंह इतिहास में बिरले ही जन्म लेते हैं।

 

आलेख

ललित शर्मा
इंडोलॉजिस्ट

About hukum

Check Also

जिनकी रगों में दौड़ती थी भारतभक्ति की लहरें : भगिनी निवेदिता

स्वामी विवेकानन्द ने भगिनी निवेदिता से कहा था कि ‘भविष्य की भारत-संतानों के लिए तुम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *