Home / इतिहास / आज तीन महान क्राँतिकारियों का बलिदान दिवस

आज तीन महान क्राँतिकारियों का बलिदान दिवस

षड्यंत्रकारी कलेक्टर को मारी थी गोली

भारतीय स्वाधीनता संघर्ष में अनंत वीरों का बलिदान हुआ है। कुछ के तो नाम तक नहीं मिलते और जिनके नाम मिलते हैं उनका विवरण नहीं मिलता। नासिक में ऐसे ही क्राँतिकारियों का एक समूह था जिनमें तीन को फाँसी और दो को आजीवन कारावास का वर्णन मिलता है। अन्य किसी का नहीं।

इसी समूह में तीन बलिदानी अनंत लक्ष्मण कान्हेरे, कृष्ण गोपाल कर्वे और विनायक नारायण देशपाँडे थे जिन्हें 19 अप्रैल 1910 में फाँसी दी गई। इनमें विनायक नारायण देशपांडे और कृष्ण गोपाल कर्वे का विवरण न के बराबर मिलता है।

उन दिनों नासिक में एक कलेक्टर जैक्सन आया। वह संस्कृत और भारतीय ग्रंथों का कथित जानकार था। वह चर्च से जुड़ा था। उसने प्रचारित किया कि वह पूर्व जन्म में संत था। उसका लक्ष्य भारतीय जनजातियों और अनुसूचित समाज पर था। वह ग्रंथों पर आधारित कथाओं के उदाहरण देता और उन्हे प्रभावित करने का प्रयत्न करता। उसके लिये अधिकारियों की एक टीम उस का प्रचार का कार्य कर रही थी।

इससे क्षेत्र में सामाजिक दूरियाँ बढ़ने लगीं और धर्मान्तरण होने लगा । मतान्तरण रोकने और समाज में स्वत्व जागरण के लिये गणेश सावरकर जी ने युवकों का एक समूह तैयार किया। इसमें अनंत कान्हेरे, श्रीकृष्ण कर्वे और विनायक देशपांडे जैसे अनेक ओजस्वी युवक थे। जो सामाजिक और सांस्कृतिक जागरण में लग गये।

गणेश सावरकर और इस टोली के काम से कलेक्टर सतर्क हुआ। तभी गणेश सावरकर जी ने कवि गोविंद की राष्ट्रभाव वाली रचनाएँ संकलित कीं और सोलह रचनाओं का का संकलन प्रकाशित कर दिया। कलेक्टर को यह पुस्तक बहाना लगी और राष्ट्रद्रोह के आरोप में सावरकर जी बंदी बना लिये गये।

यही नहीं पुलिस ने पुस्तक की तलाश का बहाना बनाकर उन सभी घरों पर दबिश दी जो उसके मतान्तरण षड्यंत्र से समाज को जाग्रत करने में लगे। तब युवकों की इस टोली ने नासिक को इस कलेक्टर से मुक्त करने की योजना बनाई। अनेक सार्वजनिक और प्रवचन के आयोजनों में प्रयास किया पर अवसर हाथ न लगा।

अंततः अवसर मिला 21 दिसम्बर 1909 को । कलेक्टर की शान में एक मराठी नाटक का मंचन किया जा रहा था। कलेक्टर के कार्यों से ब्रिटिश सरकार और चर्च प्रसन्न था। कलेक्टर जैक्सन को पदोन्नत कर आयुक्त बनाकर मुम्बई पदस्थ करने के आदेश हो गये। विजयानंद थियेटर में नाटक का यह मंचन उसी उपलक्ष्य में था।

यही अंतिम अवसर है यह सोचकर कृष्णाजी कर्वे, विनायक देशपांडे और अनंत कान्हेरे थियेटर में पहुँचे। योजना बनी कि गोली अनंत कान्हेरे चलायेंगे और शेष दोनों कवर करेंगे। उनके पास भी रिवाल्वर थे। तीनों अपने साथ विष की पुड़िया भी लेकर गये थे।

योजना थी कि यदि पिस्तौल में गोली न बची तो विषपान कर लेंगे ताकि पुलिस जीवित न पकड़ सके। नाटक का मंचन पूरा हुआ लोग बधाई देने कलेक्टर के आसपास जमा हुये। अवसर का लाभ उठाकर ये तीनों क्रान्तिकारी भी समीप पहुँचे। श्रीकृष्ण कर्वे और देशपांडे ने जैक्सन को उठाकर नीचे पटका और उसके सीने पर पैर रखकर अनंत ने चार गोलियां सीने में उतार दीं।

जैक्सन तुरंत मर गया। वहाँ उपस्थित दो अधिकारियों पलशिकर और मारुतराव ने अनंत पर अपने डंडों से हमला किया। आसपास के अन्य लोग भी टूट पड़े। इससे तीनों को न तो स्वयं पर गोली चलाने का अवसर मिला और न विषपान करने का। तीनों वहाँ उपस्थित कलेक्टर समर्थक अधिकारियों के हमले से बुरी तरह घायल हो गये। उन्हे बंदी बना लिया गया। इस घटना की गूँज लंदन तक हुई। तीनों क्रान्तिकारियो की आयु अठारह से बीस वर्ष थी।

इनमें अनंत कान्हेरे का जन्म 7 जनवरी 1892 को रत्नागिरी जिले के खेत तालुका के एक छोटे से गांव अयानी में हुआ था। उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा निजमाबाद में और उनकी अंग्रेजी शिक्षा औरंगाबाद में हुई। 1908 में कान्हेरे औरंगाबाद लौट आए जहां उन्हें गंगाराम नामक एक मित्र ने क्राँतिकारी आँदोलन से जोड़ा था।

दूसरे क्राँतिकारी कृष्णजी गोपाल कर्वे का 1887 में हुआ था। उन्होने बीए ऑनर्स क पूरा किया था मुंबई विश्वविद्यालय में एलएलबी में प्रवेश ले लिया था। वे नासिक में अभिनव भारत से जुड़े थे। जैक्सन की हत्या की योजना बनी तो इसमें शामिल हो गये। तीसरे क्राँतिकारी का परिचय बहुत ढूँढने पर भी न मिला पर फाँसी की सूची में उनका नाम है।

बॉम्बे कोर्ट में मुकदमा चला 29 मार्च 1910 को इन तीनों क्राँतिकारियों को हत्या का दोषी पाकर फाँसी की सजा सुनाई गई और 19 अप्रैल 1910 को ठाणे जेल में तीनों को फाँसी दे दी गई। अधिकारियों ने तीनों के शव परिवार को भी नहीं सौंपे। जेल में ही जला दिया और अवशेष समन्दर में फेंक दिये। जैक्सन हत्याकांड में दो अन्य क्रान्तिकारियो को आजीवन कारावास मिला । जिनकी जेल की प्रताड़नाओं से बलिदान हुआ। शत शत नमन इन क्राँतिकारियों को।

आलेख

श्री रमेश शर्मा,
भोपाल मध्य प्रदेश

About hukum

Check Also

वनवासी युवाओं को संगठित कर सशस्त्र संघर्ष करने वाले तेलंगा खड़िया का बलिदान

23 अप्रैल 1880 : सुप्रसिद्ध क्राँतिकारी तेलंगा खड़िया का बलिदान भारत पर आक्रमण चाहे सल्तनतकाल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *