Home / इतिहास / कबीर पंथ एवं गुरु गद्दी परम्परा : छत्तीसगढ़
कबीर चौरा, अमरकंटक

कबीर पंथ एवं गुरु गद्दी परम्परा : छत्तीसगढ़

संत कबीर मध्यबिंदु के सन्देश वाहक थे क्योंकि प्रवृति एवं निवृति मार्ग के मध्यबिंदु को समाज जीवन में श्रेष्ठ माना जाता है।| छत्तीसगढ़ भौगोलिक कारणों से प्राचीनकाल से संस्कृति संगम का क्षेत्र रहा है। भारत के मध्य में होने के कारण चारों दिशाओं की सभ्यताओं का आगमन इस क्षेत्र में होते रहा है, जिसका प्रभाव जनमानस में चिन्हित होता है। बताया जाता है कि 8 वीं – 9 वीं सदी में इंद्रभूति नामक सबर (वर्तमान में सांवरा जनजाति) राजा सिरपुर-शिवरीनारायण क्षेत्र के राजा थे तथा इनके राज्य को ” उड्डियान ” भी कहा जाता था। राजा इंद्रभूति वज्रयान के प्रवर्तक थे तथा इनके पुत्र / शिष्य पद्मसंभव ‘लामा संप्रदाय’ तथा इनकी पुत्री / शिष्या लक्ष्मींकरा ‘सहजयान’ की प्रणेता थी।

मराठों के छत्तीसगढ़ आगमन / आक्रमण के पूर्व (सन 1741) वनांचलों में जनजातीय संस्कृति तथा मैदानी क्षेत्र में संत कबीर के निर्गुण भक्ति का बोलबाला था। छत्तीसगढ़ में सैंकड़ों वर्षों से रतनपुर के कलचुरी राजाओं का राजत्व था जो उत्तर भारतीय राजपूत होने के बाद भी उदार, समावेशी और सामाजिक समरसता के ध्वजाधारी थे। इनके राज्य में समाज के वंचित – उपेक्षित समुदाय को भी सामाजिक श्रेष्ठता के प्रदर्शन का सामान अधिकार प्राप्त था। रायपुर शाखा के कलचुरियों की 14 वीं सदी में कुछ वर्षों राजधानी रही खल्लारी (खल्वाटिका) में देवपाल चर्मकार द्वारा निर्मित “नारायण ( विष्णु ) मंदिर” इसका जीवंत उदाहरण है। संस्कृति संगम के प्रतिफल से निर्मित संतमना जनमानस में संत कबीर के निर्गुण भक्ति को पल्लवित-पुष्पित होने के लिए ऊर्वरा भूमि का काम किया था इसलिए एक तिहाई से अधिक आबादी संत कबीर की अनुयायी बनी।

छत्तीसगढ़ में कबीरपंथ के फैलाव का श्रेय धनी धर्मदास जी उर्फ़ जुड़ावन साहू को है जो बांधवगढ़ के समृद्ध व्यापारी मनमहेश साहू एवं सुधर्मावती के पुत्र थे। इनका जन्म संत कबीर से ढाई वर्ष पूर्व विक्रम संवत 1452 अर्थात सन 1395 ई. में हुआ था। इनकी पत्नी का नाम सुलक्षणावती था। धनी धर्मदास नीमावत वैष्णव पंथ के अनुयायी थे। संत कबीर से संवत 1520 में दीक्षा उपरांत जुड़ावन साहू से धर्मदास एवं इनकी पत्नी आमीन माता कहलायी। इन्होंने अपने 56 करोड़ की संपत्ति पंथ की स्थापना एवं प्रचार में समर्पित कर दी थी।

दामाखेड़ा कबीर आश्रम से प्रकाशित साहित्यों के अनुसार संत कबीर ने भारत में पंथ स्थापना के लिए चारों दिशाओं में चार गुरु नियुक्त किये थे -: 1-उत्तर दिशा में बांधवगढ़ मुख्यालय के लिए धनी धर्मदास-42 वंश, 2-दक्षिण दिशा के लिए कर्णाटक मुख्यालय चतुर्भुज साहेब-16 वंश, 3-पूर्व दिशा के लिए दरभंगा मुख्यालय में बँके जी-27 वंश तथा पश्चिम दिशा के लिए मानकपुर मुख्यालय सहते जी बाला -7 वंश।

संत कबीर ने इन्हें गुरुवाई सौंपते हुए भविष्यवाणी की थी कि कलयुग के 5505 वर्ष बीतने के उपरांत अर्थात सन 2404 ई तक घर-घर में पंथ का प्रचार हो जाएगा तथा सत्य प्रमाणित भी होगा।

धनी धर्मदास एवं संत कबीर संवत 1569 में जगन्नाथ पूरी की यात्रा पर गए थे जहाँ धर्मदास फाल्गुन पूर्णिमा के दिन समाधि लेकर सतलोक गमन किये। संत कबीर संवत 1570 में बांधवगढ़ लौटे और धर्मदास के पुत्र चूड़ामणि उर्फ़ मुक्तामणि नाम साहेब को चैत्र पूर्णिमा के दिन बांधवगढ़ की गुरुवाई सौंपे। संत कबीर ने धर्मदास के बिंद वंश को 42 पीढ़ियों तक गुरुवाई करने की भविष्यवाणी करते हुए नामों की घोषणा भी की थी। जो इस प्रकार हैं – 1-सुदर्शन नाम साहेब, 2-कुलपति नाम साहेब, 3-प्रमोध गुरु नाम साहेब, 4-केवल नाम साहेब, 5-अमोल नाम साहेब, 6-सूरत सनेही नाम साहेब, 7-हक्क नाम साहेब, 8-पाक नाम साहेब, 9-प्रगट नाम साहेब, 10-धीरज नाम साहेब, 11-उग्र नाम साहेब, 12-दया नाम साहेब, 13-गृन्धमुनि नाम साहेब, 14-प्रकाशमुनि नाम साहेब, (वर्तमान पंथाचार्य) 15-उदितमुनि नाम साहेब, 16-मुकुंद मुनि नाम साहेब, 17-अर्ध नाम साहेब, 18-उदय नाम साहेब, 19-ज्ञाननाम साहेब, 20-हंसमणि नाम साहेब, 21-सुकृतनाम साहेब, 22-अग्रमणि नाम साहेब, 23-रस नाम साहेब, 24-गंगमणि नाम साहेब, 25-पारस नाम साहेब, 26-जाग्रत नाम साहेब, 27-भृंगमणि नाम साहेब, 28-अकह नाम साहेब, 29-कंठमणि नाम साहेब, 30-संतोषमणि नाम साहेब, 31-चात्रिक नाम साहेब, 32-आदि नाम साहेब, 33- नेह नाम साहेब, 34-अज्र नाम साहेब, 35-महा नाम साहेब, 36- निज नाम साहेब, 37-साहेब नाम साहेब, 38-उदय नाम साहेब, 39-करुणा नाम साहेब, 40-उर्ध्व नाम साहेब, 41-दीर्घ नाम साहेब तथा 42-महामणि नाम साहेब ।

इस प्रकार मुक्तामणि नाम साहेब से धनी धर्मदास जी का बिंदवंश प्रारम्भ हुआ। मुक्तामणि नाम साहेब बांधवगढ़ से हसदेव नदी के निकट कोरबा आये और वहां के तोमरवंशी राजपूत शासक को अपना शिष्य बनाये तत्पश्चात कोरबा से कुदुरमाल जाकर गुरु गद्दी स्थापित किये। वे 60 वर्ष की उम्र तक गुरुगद्दी का सञ्चालन करते रहे तत्पश्चात अपने पुत्र सुदर्शन नाम साहेब को गद्दी सौंप कर सतलोक गमन किये।

बिंदवंश के प्रथम गुरु सुदर्शन नाम साहेब कुछ वर्ष उपरांत गुरुगद्दी को रतनपुर ले आये और 60 वर्ष की आयु तक पंथ संचालन कर संवत 1690 में अपने पुत्र कुलपति नाम साहेब को गद्दी सौंप कर सतलोक गमन किये। कुलपति नाम साहेब गुरुगद्दी को रतनपुर से पुनः कुदुरमाल ले गए और वे भी 60 वर्ष की आयु तक पंथ सञ्चालन करते हुए अपने पुत्र प्रमोध गुरु को गद्दी सौंप कर संवत 1750 में सतलोक गमन किये।

बिंदवंश के चौथे प्रमोध गुरु मुग़ल बादशाह बहादुरशाह के समकालीन थे। बादशाह ने इनकी विद्वता एवं अलौकिक शक्तियों से प्रभावित होकर इन्हें “बालापीर” कहा था इसलिए ये प्रमोध गुरु बालापीर कहलाये थे। वे संवत 1775 तक पंथ सञ्चालन कर अपने पुत्र केवल नाम साहेब को गद्दी सौंपकर महाप्रयाण किये।

पांचवे गुरु केवल नाम साहेब का मुख्यालय मंडला था। वे पंथ प्रचार करते हुए धमधा पहुंचे और गुरुगद्दी स्थापित कर 25 वर्ष तक सञ्चालन कर अपने पुत्र अमोल साहेब को संवत 1800 में गुरुगद्दी सौंपे। अमोल नाम साहेब भी 25 वर्ष सञ्चालन कर अपने पूत्र सुरति सनेही साहेब को गुरुगद्दी सौंपे।

सुरति सनेही नाम साहेब का मुख्यालय भी मंडला था जहाँ से वे गद्दी को छिंदवाड़ा के सिंघोड़ी ग्राम ले गए जहां संवत 1853 में सतलोक गमन किये।

सुरति सनेही साहेब की पत्नी शूद्र कुल की थी जिनसे हंसदास (हक्क नाम साहेब) का जन्म हुआ था। हक्क नाम साहेब को गुरुगद्दी देने के लिए विवाद हुआ था तब मध्यस्थता के लिए नागपुर से मराठा राजा अप्पा साहेब भोंसले को आमंत्रित किया गया था। अंततः हक्क नाम साहेब पंथाचार्य घोषित किये गए। हक़्क़नाम साहेब पंथ प्रचार करते हुए सकरी नदी के तट पर डेरा जमाये थे, उस स्थान को कबीरधाम कहा गया जो अब कवर्धा कहलाता है।

हक्क नाम साहेब के बाद उनके पुत्र पाक नाम साहेब गुरु हुए और वे 22 वर्षों तक गुरुवाई करते हुए संवत 1912 में सतलोक गमन किये। इनके बाद इनके पुत्र प्रगट नाम साहेब पंथाचार्य हुए। तब तक पंथ का प्रचार अफ्रीका, मारीशस, फिलीपींस , त्रिनिदाद इत्यादि तक हो चूका था।

प्रगट नाम साहेब के पुत्र धीरज नाम साहेब तथा उनके पुत्र मुकुंददास पंथाचार्य हुए। मुकुंददास साहेब ही उग्रनाम साहेब कहलाये जो संवत 1940 में कवर्धा की गुरुगद्दी सम्हाले। इन्होंने पंथ की एकता के लिए कठिन परिश्रम किया और इनके कुछ शिष्य दामाखेड़ा गाँव को ख़रीदे जहाँ संवत 1961 (सन 1903) में उग्रनाम साहेब ने गुरुगद्दी स्थापित की। उग्रनाम साहेब संवत 1971 में सतलोक गमन किये थे।

उग्रनाम साहेब के बाद उनके पुत्र दया नाम साहेब पंथाचार्य हुए जिनका 28 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। इनके कोई पुत्र नहीं थे इसलिए गुरुगद्दी रिक्त हो गयी। शिष्यों और गुरु माता कलाप देवी ने महंत काशीदास को देख-रेख के लिए दीवान नियुक्त किया। महंत काशीनाथ अपने कुछ साथी साधुओं के साथ सन 1934 में दामाखेड़ा छोड़कर खरसिया में पृथक गद्दी स्थापित कर लिया। महंत के चले जाने के बाद दयानाम साहेब के चरण-पादुका को गद्दी में स्थापित कर गुरू माता द्वारा पंथ सञ्चालन किया जाने लगा। गुरुमाता कलाप देवी ने कवर्धा गद्दी के वंशज साहेब दास के बालक पुत्र गृन्धमुनि नाम को गोद लेकर ढाई वर्ष की उम्र बालक को सन 1938 में गुरुगद्दी में बैठाया गया।

गृन्धमुनि नाम साहेब युवा होकर पंथ के कर्मठ विद्वान बने और अनेक सत्संग-सभाओं के आयोजन के साथ साहित्य संकलन एवं प्रकाशन किये। वे स्वयं अच्छे साहित्यकार भी थे। सन 1992 में वे सतलोक गमन किये। उनके बाद से उनके पुत्र 14 वें गुरु प्रकाशमुनि नाम साहेब पंथाचार्य हैं। दामाखेड़ा आश्रम द्वारा ” कबीर मंशूर ” नामक वृहद् ग्रन्थ का संकलन एवं प्रकाशन किया गया है |

कबीर पंथ में भी वंशपंथी, नादपंथी, वचनपंथी, रामकबीरपंथी, पारखपंथी, सारशब्दपंथी आदि फिरके हैं लेकिन छत्तीसगढ़ में मुख्यतः दामाखेड़ा में वंशपंथी, नादिया में नादपंथी, नवापारा गोबरा में पारखपंथी आश्रम हैं। धनी धर्मदास जी के बड़े पुत्र नारायण साहेब ने भी धमतरी के हाटकेश्वर में गद्दी स्थापित की थी। बताया जाता है कि वर्तमान में मुक्तामणि नाम साहेब की दूसरी पत्नी के वंशज यहाँ निवासरत हैं । इस आश्रम में गुरु परंपरा नहीं है ।

नादिया ग्राम में सुरति सनेही साहेब के समय में ज्ञान साहेब विरक्त संत थे और उनके शिष्य सेवा साहेब हुए जिन्होंने वि. संवत 1837 में नादवंशी गद्दी की स्थापना की थी। इस मठ की गुरु परंपरा में – 1 – सेवा साहेब 2 – ध्यान साहेब 3 – चरण साहेब 4 – भावतन साहेब 5 – तुलसी साहेब 6 – बालकृष्ण साहेब 7 – लौटन साहेब 8 – रामरतन साहेब 9 – गोपाल साहेब 10 – भूप साहेब 11 – हनुमान साहेब 12 – गंगा साहेब 13 – महेश साहेब हैं।

खरसिया मठ की गुरु परम्परा भी विरक्त संतों की है जो इस प्रकार हैं – 1 काशी साहेब 2 – विचार साहेब 3 – उदित नाम साहेब 4- मनोहर साहेब।| इस पीठ में स्वामी युगलानन्द बिहारी संत हुए जिन्होंने कबीर सागर नामक वृहद् ग्रन्थ का संकलन किया था।

छत्तीसगढ़ में पनिका जाति जो सामान्यतः मानिकपुरी उपनाम लिखते हैं शत-प्रतिशत कबीर पंथी है। साहू, कुर्मी, मरार, यादव, सतनामी समाज में कबीर पंथ का व्यापक प्रभाव है। नदिया मठ की स्थापना में राजपूत परिवार की बड़ी भूमिका थी।

छत्तीसगढ़ के दामाखेड़ा में बिंदवंश ही नहीं अन्य शाखाओं का भी प्रचार है। कबीर पंथियों में प्रकाशमुनि साहेब, अभिलाष दास साहेब, पंचमदास साहेब, स्वामी मंगल साहेब, हुजूर अर्धनाम साहेब, ज्योति स्वामी साहेब, असंग साहेब, उदित नाम साहेब इत्यादि की प्रतिष्ठा स्थापित है।

अभिलाष दास साहेब “संत कबीर पारख संस्थान” के विद्वान् थे जिनके सैंकड़ों साहित्य प्रकाशित हुए हैं। अभिलाष साहेब के सतलोक गमन के बाद संस्थान के प्रमुख धर्मेंद्र साहेब हैं जो मूलतः आरंग के निकट चपरीद गाँव के हैं। पाटन के निकट सेलूद गाँव के कबीर आश्रम के प्रमुख सुकृतदास साहेब है जो अच्छे प्रवचनकार के रूप में ख्यातिनाम हैं।

छत्तीसगढ़ में कबीर पंथ के विभिन्न शाखाओं के 121 कबीर आश्रम संचालित हैं जिसमें से 28 आश्रमों के आचार्य पद पर नारियां आसीन हैं।

सन्दर्भ ग्रन्थ –
1-यथार्थ कबीर पंथ का रहस्य प्रकाशक श्री सदगुरु कबीर धर्मदास साहेब वंशावली प्रतिनिधि सभा दामाखेड़ा
2- कबीर दर्शन – अभिलाष साहेब कबीर पारख संस्थान इलाहाबाद
3- कबीर ग्रंथावली – प्रो श्याम सुन्दर दास

आलेख

डॉ.घनाराम साहू, रायपुर
छत्तीसगढ़ी संस्कृति एवं इतिहास के अध्येता

About hukum

Check Also

नानक नाम जहाज है, चढ़े सो उतरे पार : गुरु नानक जयंती विशेष

गुरु नानक देव जी का जन्मदिन प्रति वर्ष कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को मनाया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *