Home / इतिहास / भव्य होगी अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा

भव्य होगी अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा

अयोध्या में भव्य आकार ले रहे रामजन्म स्थान मंदिर ने अब अंतरराष्ट्रीय स्वरूप ले लिया है। पूरी दुनियाँ में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा दिवस की अधीरता से प्रतीक्षा की जा रही है। निर्माण के लिये 155 देशों से जल आया है, अमेरिका से एक श्रृद्धालु ने दान भेजा है तो थाईलैंड से जल के साथ मिट्टी भी आई है। 22 जनवरी को होने वाले प्राण प्रतिष्ठा समारोह का अस्सी देशों में सीधा प्रसारण होगा।

अयोध्या में बन रहे रामलला जन्म स्थान मंदिर का निर्माण अंतिम चरण में है। यद्यपि भव्यता और पूर्णता के लिये तो लगभग एक वर्ष और लगेगा पर 22 जनवरी को होने वाले रामलला प्राण प्रतिष्ठा आयोजन की लगभग सभी तैयारी हो चुकी है। इस समारोह की तैयारी तीन स्तरीय चल रही है।

एक ओर मंदिर के स्वरूप की पूर्णता, दूसरी ओर अयोध्या को भारतीय संस्कृति के अनुरूप एक सोलर सिटी का स्वरूप देने का प्रयास और तीसरा प्राण प्रतिष्ठा समारोह का पूरे भारत और संसार के अन्य श्रृद्धालुओं के लिये लाइव टेलीकास्ट करने का प्रबंध। इन तीनों दिशाओं का कार्य भी अब पूर्णता की ओर है।

17 से 22 जनवरी तक संपन्न होने वाला पाँच दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा समारोह के साथ 48 दिनों का मंडल पूजन और मंडलाभिषेकम् आयोजन भी होगा जो सात मार्च महाशिवरात्रि तक चलेगा। इसमें देश विदेश के वे श्रृद्धालु भाग लेगें जो स्थानाभाव के कारण पाँच दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा आयोजन में सम्मिलित नहीं हो सकेंगे। रामलला जिस सिंहासन पर विराजमान होंगे वह सिंहासन भी अयोध्या पहुंच गया है।

निखर रही है पूरी अयोध्या नगरी

अयोध्या में केवल भव्य जन्मस्थान मंदिर का ही निर्माण नहीं हो रहा है अपितु पूरी अयोध्या नगरी का स्वरूप निखर रहा है। अयोध्या नगर को उसके प्राचीन स्वरूप और वैभव के साथ एक “सोलर सिटी” के रूप में भी विकसित किया जा रहा है। भगवान राम ने सूर्यवंश में अवतार लिया था और भगवान सूर्यदेव अपनी ऊर्जा से पूरे संसार को जीवन देते हैं। इसी कल्पना को आकार देने के लिये पूरा नगर सौर ऊर्जा से ही प्रकाशित होगा।

इसके लिये पूरे अयोध्या में स्तंभ लगाये जा रहे हैं। इन स्तंभों को दो नाम दिये गये हैं। एक सूर्य स्तंभ और दूसरा श्रीराम स्तंभ। इन स्तंभों पर प्राचीन भारतीय संस्कृति के चित्र और अभिलेख पंक्तियाँ होंगी। इन स्तंभों के माध्यम से पूरे नगर को ऐसा साँस्कृतिक स्वरूप देने का भी प्रयास किया जा रहा जिससे इस नगर में आने वाले श्रद्धालुओं को त्रेता युग की संस्कृति का आभास हो सके।

हर स्तंभ का अपना उपनाम भी होगा। नगर के चौराहों और मार्गों के नाम भी इन स्तंभों के नाम और उपनाम के आधार पर होगें जैसे सूर्य स्तंभ, श्रीराम स्तंभ धर्मपथ, भक्तिपथ और रामपथ आदि। रामनगरी अयोध्या में इस प्रकार 40 सूर्य स्तंभ और 25 श्रीराम स्तंभ लगाए जा रहे हैं। उम्मीद की जा रही है कि 22 जनवरी तक इन स्तंभों का कार्य पूरा हो जायेगा। यह कार्य अयोध्या विकास प्राधिकरण कर रहा है।

गरिमा के अनुरुप नगर की सज्जा के साथ इस समारोह में आने वाले श्रृद्धालुओं की सुविधा के प्रबंध भी किये जा रहे हैं। नगर के खाली पड़े स्थानों और मैदानों में तंबू लगाये जा रहे हैं। सुविधा की दृष्टि से ये चार प्रकार के होगें। इन तंबुओं ने भोजन, शयन और अन्य आवश्यक सभी सुविधा प्रबंध होगें। इन तंबुओं में भाषा और क्षेत्र के अनुसार श्रद्धालुओं के रुकने का प्रबंध होगा । इनमें संबंधित भाषा और क्षेत्रीय आधार पर दुभाषिया भी होगा ताकि अतिथियों की भाषा समझकर उनकी सुविधानुसार व्यवस्था की जा सके ।

अंतरराष्ट्रीय ख्याति और जिज्ञासा

अयोध्या में रामजन्म स्थान पर निर्माणाधीन रामलला मंदिर का आकर्षण केवल भारत की सीमाओं तक ही सीमित नहीं रह गया है। इस गौरव स्थल ने अंतरराष्ट्रीय स्वरूप ले लिया है। मंदिर निर्माण में सहयोग के लिये पूरी दूनियाँ के श्रृद्धालु आतुर हैं। यह सहयोग आर्थिक भी और भावनात्मक भी। आर्थिक सहयोग के संदेश भी अनेक देशों से आ रहे हैं पर नियम प्रक्रिया के चलते अभी तक यह संभव न हो पा रहा था।

अब इन नियम प्रक्रियाओं का कुछ सरलीकरण हुआ है। तो प्रतीक के रूप में अमेरिका में निवास करने वाले एक श्रृद्धालु ने दस हजार रुपये भेजे हैं। वहीं मंदिर निर्माण में श्रमदान करने और मंदिर दर्शन केलिये आने वाले श्रृद्धालुओं की सेवा करने की इच्छा भी अनेक विदेशी श्रृद्धालु इच्छा जता रहे हैं। कुछ तो पर्यटन वीजा पर अयोध्या के दर्शन को अभी से आ गये हैं। ‘रामलला’ के भव्य अभिषेक के लिए यूक्रेन और रूस सहित 7 महाद्वीपों और 155 देशों से पवित्र जल आया है। इसके अतिरिक्त प्रतीक के रूप में थाईलैंड से पवित्र नदी का जल के साथ मिट्टी भी भेजी गई है।

लोकार्पण की तिथि 22 जनवरी को इस मंदिर का स्वरूप कैसा होगा और प्राण प्रतिष्ठा समारोह कैसा होगा इसके प्रति भी पूरी दुनियाँ जिज्ञासु है। जैसे जैसे प्राण प्रतिष्ठा की तिथि समीप आ रही है वैसे वैसे पूरी दुनियाँ में इस मंदिर के प्रति आकर्षण और जिज्ञासा बढ़ रही है। यह जिज्ञासा भी दोनों प्रकार की है। मंदिर कैसा होगा और प्राण प्रतिष्ठा आयोजन कैसा होगा। यह जन जिज्ञासा पूर्ति के लिये भी प्रबंध किये जा रहे हैं।

विश्व हिन्दु परिषद की पहल पर 22 जनवरी के प्राण प्रतिष्ठा समारोह का विदेशों में भी लाइव प्रसारण किया जायेगा। दुनियाँ के अस्सी देशों में विश्व हिन्दु परिषद की शाखाएँ हैं। इन सभी देशों में लाइव प्रसारण के प्रयास किये जा रहे हैं ताकि सभी श्रृद्धालु जन्मस्थान मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा समारोह को अपनी आंखों से देख सकें। पचास से अधिक देशों में तो लाइव प्रसारण के स्थान का चयन और प्रबंध भी हो गया है। इन देशों में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, आस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया, थाईलैंड, दक्षिण अफ्रीका आदि हैं।

भारत में तैयारियाँ और प्रसारण प्रबंध

प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव की तैयारी रामनगरी अयोध्या में तो चल ही हैं वहीं भारत में भी सभी श्रृद्धालु 22 जनवरी को एक भव्य उत्सव के रूप में मनाने की तैयारी चल रही है। भारत में जितने मठ मंदिर हैं सबको 17 जनवरी से सजाया जायेगा और 22 जनवरी को इन सभी धर्म स्थलों में लाइव प्रसारण के साथ विशेष पूजा अर्चना भी होगी। इस पूजन में उस क्षेत्र के उन सभी श्रद्धालुओं को जोड़ा जायेगा जिन्होंने मंदिर निर्माण में सहयोग दिया है।

इसके साथ ही देश के लगभग दस हजार से अधिक ऑडिटोरियम, खेल मैदान, और अन्य प्रकार के स्टेडियम का चयन किया गया है जिनमें 22 जनवरी के प्राण प्रतिष्ठा के कार्यक्रम का लाइव प्रसारण किया जाएगा। इन स्थलों पर कारसेवकों और उनके परिवारों को भी आमंत्रित किया गया है। समारोह के लिये राममंदिर न्यास, विश्व हिन्दु परिषद और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं की सक्रियता को देखकर लगता है कि ये सभी तैयारियाँ 15 जनवरी तक पूरी कर लीं जायेंगी।

आलेख

श्री रमेश शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार,
भोपाल, मध्य प्रदेश

About hukum

Check Also

भाषा के प्रति बाबा साहेब का राष्ट्रीय दृष्टिकोण

बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर के लिए भाषा का प्रश्न भी राष्ट्रीय महत्व का था। …

One comment

  1. चोवाराम वर्मा 'बादल'

    अनुपम आलेख।