Home / पर्यावरण / शोषित नदियों की आँखों से, अश्रुधार झरते देखा

शोषित नदियों की आँखों से, अश्रुधार झरते देखा

जीवनदात्री पर लोगों को, घोर जुल्म करते देखा है ।
शोषित नदियों की आँखों से, अश्रुधार झरते देखा है ।

बड़े-बड़े बाँधों की बेड़ी, बँधी पाँव में सरिताओं के।
ढोने को कचरे की ढेरी , सिर लादी नगरों- गाँवों के।
रोग प्रदूषण का है जकड़ा, तिल-तिल कर मरते देखा है।
शोषित नदियों की आँखों से,अश्रुधार झरते देखा है।

कहते लोग विकास करेंगे, बिजली की फसल उगाएंँगे ।
चला कारखानों को इससे, हम धन की भूख मिटाएँगे।
किंतु सत्य है इन कृत्यों से, जल में मल भरते देखा है।
शोषित नदियों की आँखों से, अश्रुधार झरते देखा है।

चीर पहाड़ों के सीने को, क्षत-विक्षत कर डाले हैं ।
अंधाधुंध वनों को काटे,अब वर्षाजल के लाले हैं।
धरती की हरियाली को नित, सड़कों को चरते देखा है।
शोषित नदियों की आँखों से, अश्रुधार झरते देखा है।

सप्ताह के कवि

चोवा राम वर्मा ‘बादल’ हथबंद, छत्तीसगढ़

About hukum

Check Also

सनातन विश्व में पर्यावरण क्रांति के अग्रदूत : श्री कृष्ण

श्री कृष्ण जनमाष्टमी विशेष आलेख पर्यावरण संरक्षण की चेतना वैदिक काल से ही प्रचलित है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *