Home / सप्ताह की कविता / हम हिंदू, हिंदुत्व हमारा

हम हिंदू, हिंदुत्व हमारा

हम हिंदू, हिंदुत्व हमारा, है जानो आदत न्यारी।
वीर, अहिंसक, धर्मव्रती हम, करुण-हृदय, सेवाधारी।

मर्यादा में रहना हमको, रघुनंदन ने सिखलाया।
जिसने रक्षा हेतु आन की, रावण को मार गिराया ।
किया सफाया निशाचरों का, शांति धरा में लाने को,
जूठे फल खा प्रेम निभाया, विप्र, धेनु, सुर हितकारी।
हम हिंदू हिंदुत्व हमारा, है जानो आदत न्यारी ।

योगेश्वर के हम अनुयायी,धर्म युद्ध करने वाले ।
घोर कष्ट सहकर भी हरदम, सत्य मार्ग चलने वाले ।
बदला लेने चीर हरण का, जग जाहिर भीम प्रतिज्ञा ,
नहीं चूकते दंडित करने, कोई हो अत्याचारी।
हम हिंदू, हिंदुत्व हमारा, है जानो आदत न्यारी।

शरणागत रक्षक वीरों के, हम वंशज कहलाते हैं ।
राजा शिवि, हम्मीर देव के, उज्ज्वल यश सुहाते हैं।
सत्यव्रती राजा हरिश्चंद्र, नृपति मोरध्वज, रंतिदेव
देवराज हित ऋषि दधीचि ने,स्वयं गला हड्डी वारी ।
हम हिंदू, हिंदूत्व हमारा, है जानो आदत न्यारी।

रग रग में संस्कार हमारे, मानवता, भाईचारा ।
संतों, गुरुओं, दार्शनिकों ने, दी निर्मल चिंतन धारा ।
वीर शिवाजी अरु प्रताप के, गाथा देती है शिक्षा
प्राण समर्पित कर देंगे हम, मातृभूमि सबसे प्यारी ।
हम हिंदू, हिंदुत्व हमारा, है जानो आदत न्यारी।

सप्ताह के कवि

चोवा राम वर्मा ‘बादल’
हथबंद, छत्तीसगढ़

About hukum

Check Also

बेटी की पीड़ा

हाय विधाता इस जगती में, तुमने अधम बनाये क्यों?नरभक्षी दुष्टों के अंतस, कुत्सित काम जगाये …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *