Home / सप्ताह की कविता / गद्दारी ही उनकी चौखट

गद्दारी ही उनकी चौखट

इतनी नफ़रत और कड़वाहट तौबा-तौबा
क्यों जीवन से इतनी खटपट तौबा-तौबा

दूजे को गाली देना ही दिनचर्या है
हरकत कुछ बंदों की अटपट तौबा-तौबा

जिस थाली में खाना उसमें छेद करेंगे
कुछ बंदे होते हैं संकट तौबा-तौबा

किसी भी खूँटे से बंधना हमसे न होगा
भैया तुम ही पालो झंझट तौबा-तौबा

कुछ को अपना देश नहीं, विद्वेष पियारा
गद्दारी ही उनकी चौखट तौबा-तौबा

सप्ताह के कवि

श्री गिरीश पंकज
वरिष्ठ साहित्यकार एवं कवि रायपुर, छत्तीसगढ़

About hukum

Check Also

छत्तीसगढ़ी कविताओं में मद्य-निषेध

शराब, मय, मयकदा, रिन्द, जाम, पैमाना, सुराही, साकी आदि विषय-वस्तु पर हजारों गजलें बनी, फिल्मों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *