Home / Tag Archives: रचना

Tag Archives: रचना

मुख से राम तू बोल के देख

भीतर अपने टटोल के देख।मुख से राम तू बोल के देख। स्पष्ट नजर आयेगी दुनिया,अंतस द्वार तू खोल के देख। राम नाम का ले हाथ तराजू,खुद को ही तू तोल के देख। है कीमत तेरा कितना प्यारे,जा बाजार तू मोल के देख। कितना मीठा कड़ुवा है तू,ले पानी खुद घोल …

Read More »